पत्रिका में डायरेक्टर पद से तिवाड़ी की जल्द छुट्टी, जयसिंह कोठारी फिर संभालेंगे वित्त की कमान

जयपुर। मजीठिया मामले पर अभी कुछ दिनों पहले राजस्थान पत्रिका में मालिकों और उच्चाधिकारियों की बैठक में हुए अपमान से डायरेक्टर एचपी तिवाड़ी नाराज हैं। उन्हें इस बात का मलाल है कि सब कुछ मालिकों के सामने हुआ, लेकिन उन्होंने उनका पक्ष नहीं लिया। इसी बात से खफा होकर उन्होंने अपना इस्तीफा कम्पनी को सौंप दिया है। सूत्रों के मुताबिक वे अभी एक माह के नोटिस पीरियड पर हैं। वे इससे पहले भी दो बार इस्तीफा सौंप चुके हैं, लेकिन अखबार मालिक अभी तक उसे स्वीकार नहीं कर रहे थे। लेकिन, अब अखबार मालिकों ने भी इस्तीफा स्वीकार करने का मन बना लिया है। इस संकटकाल में गुलाब कोठारी ने अपने चचेरे भाई जयसिंह कोठारी का हाथ थामना बेहतर समझा। अभी कुछ दिनों से जयसिंह कोठारी केसरगढ़ में देखे जा रहे हैं। ऐसे में यह तय माना जा रहा है कि एचपी तिवाड़ी की जल्दी छुट्टी होने वाली है और उनकी जगह जयसिंह कोठारी पद संभालेंगे। सूत्रों के मुताबिक मजीठिया मामले में अभी तक सुप्रीम कोर्ट के रुख को देखकर भी एचपी तिवाड़ी घबराए हुए थे। क्योंकि, प्रशासनिक और वित्त डायरेक्टर तिवाड़ी हैं। सुप्रीम कोर्ट में पत्रिका प्रबंधन ने जो जवाब दिया है, उसमें भी इनकी ही जवाबदेही बताई गई है। ऐसे में इन्हें ही सुप्रीम कोर्ट की अवमानना की कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा।

पहले भी संभाल चुके हैं जिम्मेदारी

यह पहली बार नहीं हो रहा, जब जयसिंह कोठारी को पत्रिका में अहम पद पर लाया जा रहा है। पत्रिका के शुरुआती दौर में जयसिंह कोठारी वित्त निदेशक थे और उन्हें कर्मचारियों का रहनुमा माना जाता था। उस समय एचपी तिवाड़ी बाबू थे और उनके अधीन कार्य करते थे। करीब एक दशक पहले जयसिंह कोठारी ने पत्रिका को छोड़ दिया था और अपना अखबार नफा-नुकसान खोल लिया था। अब फिर से जयसिंह कोठारी की एंट्री पत्रिका में हो रही है।